Home loan EMI crashing down to 7%

भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) के रीपो रेट कट (Repo rate cut) के ऐलान से अपने मकान का सपना पूरा करने के लिए होम लोन लेने वालों को बड़ी राहत मिली है। केंद्रीय बैंक के रीपो रेट में 0.40% की कटौती से होम लोन की ब्याज दर (Home loan interest rate) लगभग 7% के आसपास पहुंच गई है, जो बीते 15 वर्षों का निचला स्तर है। 
इसके साथ ही, कोरोना वायरस संकट के कारण नकदी की किल्लत का सामना कर रहे लोगों को ईएमआई भरने के लिए तीन महीने का अतिरिक्त मोराटोरियम दिया गया है। जिन कर्जदारों ने अब तक मोराटोरियम का फायदा नहीं उठाया था और अगर अब वे वित्तीय परेशानियों का सामना कर रहे हैं तो वे बढ़ाए गए तीन महीने के मोराटोरियम का फायदा उठा सकते हैं। 

30 लाख रुपये के तक होम लोन पर मौजूदा बॉरोअर्स के लिए एसबीआई का इंट्रेस्ट रेट मौजूदा 7.4% से घटकर 7% हो जाएगा। महिला कर्जदारों के लिए इंट्रेस्ट रेट 0.05% और कम हो जाएगा।

अक्टूबर 2019 में जब से होम लोन इंट्रेस्ट रेट को रीपो रेट से जोड़ा गया है, तब से ब्याज दर में 1.4% की कमी हो चुकी है। 30 लाख रुपये के होम लोन पर इंट्रेस्ट रेट अब ईएमआई घटकर अब 19,959 रुपये पर पहुंच गई है, जो अक्टूबर में 1,896 रुपये थी।

हाउजिंग फाइनैंस कंपनियों और जिन बैंकों ने होम लोन के इंट्रेस्ट रेट को रीपो रेट से लिंक्ड नहीं किया है, वह रेट कट का फायदा ग्राहकों को नहीं दे सकते। हालांकि, एचडीएफसी ने पहले ही ब्याज दर को घटाकर 7.50% कर दिया है।