HDFC अर्गो ने किया स्वास्थ्य बीमा कंपनी अपोलो म्यूनिख का अधिग्रहण


HDFC ERGO Health Insurance,

घर खरीदने के लिए कर्ज देने वाली कंपनी एचडीएफसी (HDFC) की सहयोगी ईकाई एचडीएफसी अर्गो (HDFC Ergo) ने अपोलो म्यूनिख स्वास्थ्य बीमा (Apollo Munich Health Insurance) में 1,495.81 करोड़ रुपये में बहुलांश हिस्सेदारी के अधिग्रहण का काम पूरा कर लिया है। इसकी जानकारी एचडीएफसी ने गुरुवार को दी। एचडीएफसी ने अपोलो अस्पताल समूह के अपोलो म्यूनिख में 50.80 फीसदी हिस्सेदारी 1,485.14 करोड़ रुपये में खरीद ली है। साथ ही 0.36 फीसदी कर्मचारियों की हिस्सेदारी 10.67 करोड़ रुपये में खरीदी गई है। बता दें कि दो जनवरी 2020 को एचडीएफसी ने बताया था कि कंपनी और उसकी सहायक कंपनी एचडीएफसी अर्गो को अपोलो म्यूनिख में बहुलांश शेयरधारिता पाने के लिए मंजूरी मिल गई है। 

एचडीएफसी अर्गो हेल्थ इंश्योरेंस लिमिटेड होगा नया नाम

इस संदर्भ में एचडीएफसी ने गुरुवार को एक नियामकीय सूचना में कहा था कि, ‘इस नियामक के बाद, अपोलो म्यूनिख हेल्थ इंश्योरेंस कंपनी लिमिटेड का नाम बदलकर एचडीएफसी अर्गो हेल्थ इंश्योरेंस लिमिटेड (एचडीएफसी ईआरजीओ हेल्थ) कर दिया है। साथ ही यह एचडीएफसी लिमिटेड की सहायक कंपनी के रूप में काम करेगी।’ 

रेगुलेटरी फाइलिंग के अनुसार, इस सौदे को नेशनल हाउसिंग बैंक, कंपीटीशन कमीशन ऑफ इंडिया (सीसीई) और भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) पहले ही अपनी मंजूरी दे चुके हैं। रिपोर्ट्स के अनुसार, एचडीएफसी ने अपोलो म्यूनिख में 51.2 फीसदी हिस्सेदारी खरीदने के लिए अपोलो हॉस्पिटल ग्रुप से 1347 करोड़ रुपये का सौदा किया है और इसका एचडीएफसी अर्गो में विलय किया जाएगा। एचडीएफसी ने जून 2019 में इस सौदे के लिए समझौता किया था।

अपोलो हॉस्पिटल बेचेगा पूरी हिस्सेदारी

इस सौदे के पूरा होने के बाद अपोलो म्यूनिख का एचडीएफसी अर्गो के साथ विलय किया जाएगा। हालांकि, अभी इस सौदे को नेशनल कंपनी लॉ ट्रिब्यूनल की अंतिम मंजूरी मिलनी बाकी है। इस समझौते के तहत अपोलो हॉस्पिटल एंटरप्राइजेज अपोलो म्यूनिख में अपनी 9.96 फीसदी की पूरी हिस्सेदारी को बेचेगा। इरडा से मंजूरी मिलने के बाद गुरुवार को अपोलो हॉस्पिटल के शेयरों में तेजी दर्ज की गई और बीएसई में यह 66.45 रुपए की तेजी क साथ 1493.35 रुपए प्रति शेयर पर बंद हुए। एचडीएफसी के शेयर भी 32.50 रुपए चढ़कर 2466.25 रुपए प्रति शेयर पर बंद हुए।

एचडीएफसी के चेयरमैन ने दिया था बयान

पिछले साल जून में एचडीएफसी के चेयरमैन दीपक पारेख ने बताया था कि, ‘जर्मनी की इंश्योरेंस कंपनी म्यूनिख हेल्थ संयुक्त उद्यम को समाप्त करने के लिए अपोलो अस्पताल एंटरप्राइज एंड अपोलो एनर्जी को 294 करोड़ रुपये का भुगतान करेगी।’